Thursday, January 24, 2008

******कशिश*******

मोहब्बत ना समझ होती है, समझना ज़रूरी है,
जो दिल मे है उसे आंखो से कहलवाना ज़रूरी है,

उसूलो पर जो आँच आये तो टकराना ज़रूरी है,
जो ज़िन्दा है तो फिर ज़िन्दा नज़र आना भी ज़रूरी है,

मोहब्बत मे कशिश रखने को शर्माना ज़रूरी है,
बहुत बेबाक आंखो मे तालुक़ टिक नही सकता
मोहब्बत मे कशिश रखने को शरमाना ज़रूरी है,

सलीक़ा ही नही शायद उसे महसूस करने का,
जो कहते है गर खुदा है तो नज़र आना भी ज़रूरी है..........................

4 comments:

ashish said...

again excllent priyanka ji you have tried to merge several things within in poetry

Raj said...

Hon'ble Miss Priyanka
मोहब्बत ना समझ होती है, समझना ज़रूरी है,
जो दिल मे है उसे आंखो से कहलवाना ज़रूरी है,
I am not confirmed, but usually think the undermentioned lines may be sufficient to understand the "Mohabbat/Love"

*****LOVE IS*****

What is love?
Love can't see you and you can't see it
Love is a sneaky thing I guess sort of slick

Love can hurt and Love can heal
Love can be born and Love can kill

Love has won and Love has lost
Love can catch and Love can toss

Love can stand and Love can fall
Love is small and Love is tall

Love is right and Love is wrong
Love is weak and Love is strong

Love is up and Love is down
Love can smile and Love can frown

Love is good and Love can be bad
Love is quite and Love can brag

Love is a little and Love is a lot
Love contiues and Love stops

Love can hope and Love can dream
Love can talk and Love can sing

Love can be a word or Love can be a ring
Love can be nothing or Love can be everything

So where is this thing we call Love
I dont know the only real love we have comes from above...

"Priyraj"

Raj said...

सुश्री प्रियंका जी
"मोहब्बत की कशिश रखने को शरमाना जरूरी है" क्योंकि न तो हम न वो "इजहार" मेरे ख्याल से नहीं करते हैं।

**ना हम ना वो इजहार नहीं करते**

मिला वो भी नहीं करते, मिला हम भी नहीं करते,
वफ़ा वो भी नहीं करते, वफ़ाहम भी नहीं करते।

उन्हें रुसवाई का दुख और हमें तन्हाई का डर,
गिला वो भी नहीं करते, शिकवा हम भी नहीं करते।

अगर किसी मोड पर टकराव हो जाता है अक्सर।
रुका वो भी नहीं करते, ठहरा हम बही भी नहीं करते।

जब भी देखते हैं उन्हें, सोचते हैं कुछ कहें उनसे।
सुना वो भी नहीं करते, कहा हम भी नहीं करते।

लेकिन यह भी सच है कि मोहब्बत उन्हें भी है।
इजहार वो भी नहीं करते, इशारा हम भी नहीं करते।

"प्रियराज"

Raj said...

Miss Priyanka
Very Heart feeling "Mohabbat" subject you started, I propose some tips about it.

Kisi Ne Poocha Mohabbat Kya Hai???

Samundar Ne Kaha...
Mohabbat Samundar Ki Gehraiyo Mein Chhupi Hui Ek Seep Hai,
Jisme Chahat Jaisa Anmol Moti Mojood Hai...

Baadal Ne Kaha...
Mohabbat Ek Dhanak Hai,
Jisme Har Rang Samaya Hota Hai...

Shayar Ne Kaha...
Mohabbat Ek Aisi Ghazal Hai,
Jo Har Ek Sunnewalo Ke Dil Mein Utarti Chali Jaati Hai...

Saaz Ne Kaha...
Mohabbat Ek Aisa Geet Hai,
Jo Dil Mein Utar Jaata Hai...

Mali Ne Kaha...
Mohabbat Gulshan Ke Phool Ki Woh Dilkash Khusboo Hai,
Jisme Saara Gulshan Mehak Utha Hai...

Aankhon Ne Kaha...
Mohabbat Aansoo Ka Samundar Hai,
Jo Kisi Ke Intezar Mein Khamoshi Se Behta Hai...

Dil Ne Kaha...
Mohabbat Kisiko Khamoshi Se Chahte Jaana Ka Naam Hai,
Ke Aakhiri Waqt Bhi Izahar...

Aur Aap Kya Kahti Hain????
सलीक़ा ही नही शायद उसे महसूस करने का,
जो कहते है गर खुदा है तो नज़र आना भी ज़रूरी है

Shikayat hai par kuch bol nahi sakte,
Bahut dard chupa hai dil mei par dikha nahi sakte,
Mile bina reh lenge hum par yaad kiye bina reh nahi sakte.....

"Priyraj"